दीपों का महत्व

पर्व है पुरुषार्थ का, 
दीप के दिव्यार्थ का, 
देहरी पर दीप एक जलता रहे, 
अंधकार से युद्ध यह चलता रहे, 
हारेगी हर बार अंधियारे की घोर-कालिमा, 
जीतेगी जगमग उजियारे की स्वर्ण-लालिमा, 
दीप ही ज्योति का प्रथम तीर्थ है, 
कायम रहे इसका अर्थ, वरना व्यर्थ है, 
आशीषों की मधुर छांव इसे दे दीजिए, 
प्रार्थना-शुभकामना हमारी ले लीजिए!!
झिलमिल रोशनी में निवेदित अविरल शुभकामना 
आस्था के आलोक में आदरयुक्त मंगल भावना!!!

Article written by

Please comment with your real name using good manners.

Leave a Reply

You must be logged in to post a comment.

Result icon